लक्ष्य प्राप्ति की 5 महत्वपूर्ण बातें

लक्ष्य प्राप्ति की 5 महत्वपूर्ण बातें



जिंदगी में लक्ष्य चयन और उसकी प्राप्ति बहुत ही महत्वपूर्ण है। एक लक्ष्य तैयार करना, उस पर कार्य करना और उसकी प्राप्ति जिंदगी को अर्थपूर्ण बनाता है। इस पोस्ट के माध्यम से इसी विषय में कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं का वर्णन किया गया है। ये 5 बिंदु इस प्रकार हैं-

1. लक्ष्य का चयन।

2. लक्ष्य तय करना।

3. लक्ष्य पर कार्य करना।

4. लक्ष्य को प्राप्त करना।

5. क्या करें और क्या न करें।


A. लक्ष्य का चयन

लक्ष्य का सबसे महत्वपूर्ण कदम है। यहाँ लक्ष्य के चयन से तात्पर्य उन संभावनाओं से है जो लक्ष्य प्राप्ति में Motive प्रदान करते हैं। 

उदाहरण के लिए- यदि किसी के पास 5 विकल्प हैं जिनमें पहला- निजी क्षेत्र में नौकरी, दूसरा- सरकारी क्षेत्र में नौकरी, तीसरा- व्यवसाय क्षेत्र, चौथा- क्रिएटिव एक्टिविटीज, पाँचवा- पेशेवर कार्य।

उपरोक्त पाँच क्षत्रों में से यदि वह उस फील्ड का चयन करता है-

1. जो अच्छा है, क्योंकि सबका मानना है कि वह फील्ड बेस्ट है।

2. जिसमें  आर्थिक लाभ ज्यादा है, क्योंकि दूसरे इस फील्ड में ज्यादा आर्थिक लाभ कमा रहे हैं।

तब, इस स्थिति में उसकी सफलता की संभावनाएँ कम होती जाती हैं।

दूसरों की सफलता के पीछे कौनसी योजनाएँ रहीं, क्या बाधाएँ थीं, उनके निराकरण के क्या उपाय अपनाये गये, इन सब बातों को ध्यान में न रखकर किसी फील्ड विशेष में कदम रखना असफलता की सीढ़ी चढ़ने के समान है।

ठीक इसके विपरीत यदि वह उस क्षेत्र का चयन करता है-

1. जो वास्तविक तथ्यों पर आधारित है।

2. मानव जीवन की मूल अवश्यकताओं से जुड़ी है।

3. जिसमें उसकी रुचि है।

4. जिसकी उसे समझ व ज्ञान है।

तब, इस स्थिति में उसकी सफलता की संभावनाएँ भविष्य में बनी रहती है।


B. लक्ष्य तय करना

लक्ष्य चयन करना और लक्ष्य तय करने में काफी अंतर हैं। लक्ष्य चयन करने के पश्चात हमें छोटे-छोटे स्टेप्स के रूप में लक्ष्य तय करने चाहिए। उदाहरण के लिए यदि हमने अपने लक्ष्य के रूप व्यवसाय का क्षेत्र चुना है, तब हमारे द्वारा तय किया जाने वाला पहला लक्ष्य customers/ग्राहकों का base बनाना होगा जिन्हें हम अपने उत्पाद बेंच सके। और ये ऐसे ग्राहक होंगे जो बार-बार हमारे पास आएँगे। इसकी शुरुआत छोटे स्तर से होनी चाहिए।


C. लक्ष्य पर कार्य करना

यह सबसे महत्वपूर्ण कदम है। अपने लक्ष्य पर निरंतर और smart work करना भविष्य में मिलने वाली सफलता की नींव रखती है। अपने समय को कार्य पर ही केंद्रित करने की जरूरत होती है। इसके लिए दिन, रात, सप्ताह, महीना या साल देखने की जरूरत नहीं होती है। व्यक्तिगत और पारिवारिक कार्यों हेतु अलग से समय निर्धारित करने ले पश्चात शेष समय को लक्ष्य पर ही लगाना चाहिए।


D. लक्ष्य को प्राप्त करना 

स्वयं के द्वारा तय किये गये पहले लक्ष्य को प्राप्त करना अगले लक्ष्य व सफलता को प्राप्त करने की एक महत्वपूर्ण कड़ी है। अतः प्रथम लक्ष्य प्राप्ति के पश्चात अपने कार्य में एकाग्र होकर और भी डूब जाना चाहिए। कार्य के उस विशेष क्षेत्र में Good या Better नहीं, अपितु Best करने की कोशिश हमेशा होनी चाहिए।


E. क्या करें और क्या न करें?

1. बिना रूचि वाले क्षेत्र में part time के तौर पर ही अपने समय का निवेश करें। बिना रूचि वाले क्षेत्र में full time के रूप में एक बार प्रवेश करने पर व्यक्तिगत और सामाजिक तौर पर बाहर निकल पाने की संभावना न कर बराबर होती है। अतः किसी भी फील्ड में जाने से पहले 100 बार जरूर आत्म-चिंतन करें।

2. उसी क्षेत्र में प्रवेश करें जिसमें जमीन स्तर का ज्ञान और कुछ अनुभव हो। Proper nowledge और experience के बिना सम्बंधित क्षेत्र में आगे बढ़ना कुछ ही दिनों तक संभव हो पाता है।

-BY HARISH MANIK

Post a comment

3 Comments

  1. सरल, सहज और कम शब्दों में अपने लक्ष्य की प्राप्ति और उसके रास्तों को बताया गया है। बहुत ही प्रभावकारी लेख है।

    ReplyDelete