Sukha Mahadev: सूखा महादेव

परिचय

सूखा महादेव एक पवित्र और धार्मिक स्थल है। यहाँ प्रतिवर्ष हजारों की संख्या में श्रद्धालु भगवान और मंदिर के दर्शन करने आते हैं।

क्यों है महत्व?

इस जगह का धार्मिक महत्व है। यह जगह भगवान शिव के निवास स्थल के रूप में जानी जाती है। प्रतिवर्ष यहाँ महा शिवरात्रि के दिन विशाल मेला लगता है। इस मेले में श्रद्धालुओं का ताँता लगा रहता है। यहाँ आने के बाद भगवान के दर्शन करने से मन को आत्मिक शांति की प्राप्ति होती है। साथ ही आसपास के मनमोहक दृश्यों को देखने से मन प्रसन्न हो जाता है। मन के विकार भी दूर हो जाते हैं।

क्या है इतिहास?

कहा जाता है कि भगवान शिव अपने प्रवास के दौरान यहाँ से होकर गुजरे थे। तथा यहाँ विश्राम करने के लिए रुके थे। अतः यह स्थान भगवान शिव के शक्ति का प्रतीक है।

कैसे पहुँचे?

यहाँ पहुँचने के लिए राज्य सरकार के द्वारा पहुँच मार्ग बनाया गया है। हालाँकि यह जगह उड़ीसा में स्थित है लेकिन पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ से भी श्रद्धालु यहाँ आते है।

पहुँच मार्ग

राज्य राजमार्ग 43 का उपयोग करते हुये आप यहाँ छत्तीसगढ़ से पँहुच सकते हैं। सबसे पहले लवकेरा पार करने के बाद बलसंकरा के दाहिने ओर का रास्ता लेने से कुछ ही दूरी पर सूखा महादेव पड़ता है। वहीं उड़ीसा वासियों को सुंदरगढ़ - बलसंकरा रोड़ लेना पड़ता है।

मंदिर

भगवान की प्रतिमाएँ

इस मंदिर के प्रांगण में हिन्दुओं प्रमुख आराध्य देवी एवं देवताओं की प्रतिमाएँ लगी हैं।

अन्य स्थल

प्राकृतिक स्थल

नदी: इस मंदिर के बगल से ईब नदी बहती है जो अंत में हीराकुंड डैम से मिल जाती है।

पहाड़: मंदिर के सामने ही एक खड़ी और ऊंची चट्टान है। वास्तव में यह एक पहाड़ है। इस पहाड़ का अधिकतर हिस्सा वनस्पति  विहीन है, तथा पहाड़ की चोटी तक पहुँचने के लिए रास्ता बनी हुई है।

जलवायु

यहाँ की जलवायु मौसम पर आधारित है। गर्मी के दिनों में सामान्य से अधिक गर्मी पड़ती है जबकि सर्दी के दिनों में ठण्ड सामान्य रहती है। औसत वार्षिक वर्षा भी अन्य क्षेत्रों की तुलना में कम ही होती है।

उचित मौसम

यहाँ आने का सबसे उचित समय ठण्ड का मौसम है। ठण्ड के दिनों में यहाँ अन्य मौसम में होने वाली परेशानियों से बचा जा सकता है।

Post a comment

0 Comments