दोकड़ा (Dokda): ग्राम पंचायत दोकड़ा

दोकड़ा: ग्राम पंचायत दोकड़ा

परिचय: दोकड़ा
ग्राम पँचायत: दोकड़ा
विकास खण्ड: कांसाबेल
तहसील: कांसाबेल
जिला: जशपुर
संभाग: अम्बिकापुर
राज्य: छत्तीसगढ़
जनसंख्या: 6162

दोकड़ा आसपास के क्षेत्र में सबसे बड़े राजस्व ग्राम के रूप में जाना जाता है। यह ग्राम राजनीति, शिक्षा और खेल के क्षेत्र में भी जानी जाती है। पतरापाली, खूँटीटोली, डूमरडीह, महुआटोली, गरिहादोहर, देवरी, कटंगखार, कोरंगाबहला इत्यादि इसके आसपास के गाँव हैं। जिनमें पतरापाली, गरिहादोहर और देवरी ग्राम पँचायत हैं। दोकड़ा इन सभी गाँवो के लिए मध्य केंद्र का काम करता है।

शासन एवं प्रशासन

यह एक ग्राम पँचायत है। पूरी कार्यविधि का संचालन सरपँच, उप सरपँच, पँच और सचिव और ग्राम सभा के माध्यम से की जाती है।
ग्राम पँचायत भवन गाँव के मुख्य मार्ग के किनारे स्थित है। यहाँ प्रति शुक्रवार ग्राम सभा आयोजित की जाती है।

परिवहन

परिवहन के साधनों में मुख्य साधन बस हैं। यहाँ से जशपुर के लिए चार बस चलते हैं। तथा रायगढ़ के लिए 3 बस। सभी बस निजी मालिकों के हैं। कभी-कभी व्यवसायिक ट्रक भी इस मार्ग का उपयोग करते हैं।

गाँव का मुख्य मार्ग दक्षिण की ओर 13 km की दूरी पर फरसाबहार राज्य राजमार्ग से जुड़ती है। वहीं उत्तर की ओर यह राष्ट्रीय राजमार्ग 78 से 8 km की दूरी पर बंदरचुआँ से मिल जाती है।

बंदरचुआँ पहुँचने से 1.5 km पहले ही सभी वाहन पेट्रोल टँकी से ईंधन भरते हैं।

धर्म व धार्मिक स्थल

इस गाँव मे मुख्य रूप से तीन धर्म के लोग निवास करते हैं। हिन्दू, मुस्लिम और ईसाई धर्म के मानने वाले लोग इस गाँव में रहते हैं न इनमें सबसे अधिक हिन्दू हैं।

गाँव में दक्षिण-पूर्व की ओर स्थित एक छोटी पहाड़ी है जिसे सम्पहरी के नाम से जाना जाता है। यह एक पवित्र स्थान है। यहाँ ग्राम्यदेव की पूजा अर्चना की जाती है।

गाँव में एक शिव मंदिर, एक जग्गनाथ मंदिर, एक चर्च (दरूपिशा) और एक मस्जिद है

प्राकृतिक स्थल

यह गाँव आसपास के प्राकृतिक स्थल के लिए जानी जाती है। इसमें बोड़ाटोंगरी प्राकृतिक स्थल का एक प्रतीक है। इसका यह नाम अजगर साँप के नाम पर पड़ा है जिसे देहाती में बोड़ा साँप भी कहा जाता है। इसके अतिरिक्त मैनी नदी भी एक बहुत ही सुंदर प्राकृतिक स्थल है। यह नदी ईब नदी से जाकर मिलती है जो आगे जाकर हिकुण्ड डेम से मिल जाती है।

पर्यटन स्थल

1. बोड़ा टोंगरी।
2. मैनी नदी।
3. गरिया मुड़ा।
4. सम्पहरी।

आर्थिक

यहाँ के अधिकतर निवासी नौकरी और व्यवसाय में लगे हैं। खेती यहाँ की मुख्य व्यवसाय है। 99% भाग में धान की ही खेती की जाती है। इसके अतिरिक्त व्यवसायों में किराना दुकान, फेब्रिकेशन, कपड़े, फर्नीचर व्यवसाय इत्यादि के व्यापार किये जाते हैं।

प्रति शुक्रवार हाट अथवा बाजार लगता है। यह एक साप्ताहिक बाजार है जहाँ दैनिक आवश्यक के हर वस्तु उपलब्ध होते हैं।

स्वास्थ्य सुविधा

मानव स्वास्थ्य सुविधा

मानव स्वास्थ्य सुविधा के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र है। यह बस स्टैंड के पास स्थित हैं। यहाँ सामान्य और छोटी बीमारियों जैसे मलेरिया, दस्त, सामन्य बुखार इत्यादि का इलाज किया जाता है।

सुरक्षा व्यवस्था

इस गाँव में सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिस चौकी की स्थापना सरकार द्वारा की गई है, जो गाँव में सुरक्षा व्यवस्था व शांति बनाए रखने के लिए जिम्मेदार है।

शिक्षा

दोकड़ा में शिक्षा व्यवस्था के निम्न संस्था हैं:

1. सरकारी संस्था।
2. निजी संस्था।

सरकारी संस्था

1. प्राथमिक शाला।
2. मिडिल स्कूल।
3. हाईस्कूल।
4. हायर सेकंडरी स्कूल- इसके अंतर्गत गणित, विज्ञान और कला की शिक्षा दी जाती है।

राजनीति

इस गाँव के निवासी श्री ओम चौधरी भूतपूर्व मुख्यमंत्री माननीय डॉक्टर रमन सिंह के निजी सहायक रह चुके हैं। वहीं पूर्व जमाने के राज घराने के सम्बंध भी इस गाँव से हैं। जूदेव परिवार के महल का खण्डहर आज भी इस गाँव में देखी जा सकती है।

Post a comment

0 Comments